Chapter 10 Shloka 18

विस्तरेणात्मनो योगं विभूतिं च जनार्दन।

भूय: कथय तृप्तिर्हि श्रृण्वतो नास्ति मेऽमृतम्।।१८।।

O Janardhana! Pray tell me in detail about

Thy power of yoga and Thy divine energy,

because I cannot hear enough

of Thy words which are like nectar.

Chapter 10 Shloka 18

विस्तरेणात्मनो योगं विभूतिं च जनार्दन।

भूय: कथय तृप्तिर्हि श्रृण्वतो नास्ति मेऽमृतम्।।१८।।

Seeking to hear more of the Lord’s power of yoga and His divine manifestations, Arjuna prays to the Lord,

O Janardhana! Pray tell me in detail about Thy power of yoga and Thy divine energy, because I cannot hear enough of Thy words which are like nectar.

Arjuna says, “O Lord! Tell me once again!

1. Elaborate on Your yoga and Your divine potency so that I may perhaps be able to understand.

2. You are so magnificent – how can I fathom Your magnificence?

3. How shall I know and believe that You are all?

4. You are standing before me as a single individual – I find it difficult to understand how You abide in all.

5. Please tell me, how shall I practice and how shall I meditate upon You?

6. Who are the ones, seeing whom I should remember Your divine Name?

Tell me more about Yourself. I have not been satiated by the brief description You have given me. If You explain it again in detail, maybe my practice will also occur simultaneously and, hearing Your nectar-like words, I might be able to attain freedom.

Therefore, in Thy compassion, pray describe again at length Your divine power and Your yoga.”

The significance of the Vibhuti Paad and the vision of the Lord’s universal manifestation

First understand why the Lord has described His universal form and the Vibhuti Paad in such great detail. The Lord is pointing out to Arjuna:

a) the extremely limited stature of the individual being;

b) the immense dependency of the individual on the Supreme Lord;

c) the Lord’s universal manifestation;

d) that the Lord abides in all beings – ‘Vaasudevam idam sarvam’;

e) the indivisible nature of the Supreme Atma – the Lord is giving Arjuna an opportunity to practice this belief in life;

f) that this entire creation is dependent on the Lord;

g) that the actions of this entire creation and all qualities are dependent on the Supreme Lord;

h) that all aspects of this entire creation – inert and conscious, are all parts of the Supreme Atma.

­­–  The Lord is thus trying to eradicate the delusion in the individual’s mind.

­­–  He is trying to annihilate the idea of individualism in the mortal being.

­­–  He is endeavouring to eliminate the futile ego of the individual.

­­–  He is trying to eliminate the idea of doership from the individual’s mind.

­­–  He is trying to destroy the ignorance and ‘I’ thought that plagues an individual.

He is trying to explain to Arjuna that even if one eliminates pride in one’s own qualities, it is not right to blame others for any qualities they may possess. Thus the Lord is endeavouring to eliminate all thoughts of criticism from the practicant’s heart. ‘Life and death are in the hands of the Supreme’ – by saying this, the Lord is eradicating the attachment of the individual from his body. The life of the individual is in the Lord’s hands – through this statement, the Lord is attempting to equip the individual with an impartial and detached attitude to life. By stating that all qualities are endowed by the Lord, He is helping the individual to transcend all qualities and become a gunatit. The creation of the human body is also the Lord’s handiwork – knowing this, the individual’s attachment with name and form should cease. The mind and the intellect of the individual are also the Lord’s handiwork – by explaining this, He is annihilating the individual’s attachment with the mind and intellect.

Little one, those who have unquestioning faith in the Lord, and those who accept the Lord’s words with an attitude devoid of criticism,

a) are emancipated from attachment and hatred;

b) will never utter a bad word against anybody;

c) will never try to seek revenge from anyone;

d) will renounce pride, conceit and arrogance in a moment;

e) will eliminate all sharpness, hardness and rancour from within themselves;

f) will forsake anger forever upon hearing these words of the Lord.

Thus all ego-ridden practices will cease because the individual will know that all attributes belong to the Lord. Such believers will no longer be able to lay any blame on this body – a mere idol of clay. Their carping nature will thus cease to exist. Their fault finding tendencies will be laid to rest and they will no longer deride or defame others. No longer will venomous, inimical or hatred-ridden tendencies be able to infest their minds. Greed, desire and avarice will also beat a hasty retreat. Thus shall they become devoid of all evil and harmful tendencies. As a result, all dualities shall be transcended and within them there will be:

a) a pure and blemishless mind;

b) a mind free of enmity;

c) the birth of an attitude free of the concept of ‘I’ and ‘mine’;

d) the birth of detachment;

e) the birth of peace.

Thereafter, divine qualities will emanate from within those beings. Thus their lives will be pervaded by:

a) endurance;

b) forbearance and fortitude;

c) forgiveness and compassion;

d) magnanimity and the desire to work for the welfare of others;

e) humility as an inevitable consequence.

The mind of such a one shall be freed of anger and the tendency to criticise. Detached from himself, he will progress towards friendship with others.

Knowing all to be manifestations of the Lord, he will work for the welfare of all. The mind of such a one will no longer rebel – it will instead become cooperative and helpful.

Little one, justice, truth, love and detachment will take birth in the life of that devotee imbued with faith. He will become devoid of all aberrations and ever detached towards himself. Thus ever satiated, transcending duality, blemishless and devoid of moha, that one will become a gunatit. He will inhere all the attributes of divinity and inevitably ascend to the state of a Sthit Pragya or one whose intellect is established in the Truth.

अध्याय १०

विस्तरेणात्मनो योगं विभूतिं च जनार्दन।

भूय: कथय तृप्तिर्हि श्रृण्वतो नास्ति मेऽमृतम्।।१८।।

अब अर्जुन भगवान से उनकी योग शक्ति तथा विभूति विस्तार की प्रार्थना आगे कहने लगे, हे भगवन!

शब्दार्थ :

१. अपनी योग शक्ति और विभूतियों को फिर से विस्तार से कहिए,

२. क्योंकि आपके अमृतपूर्ण वचन सुन कर मेरी तृप्ति नहीं होती।

तत्व विस्तार :

अर्जुन ने कहा, ‘भगवान! फिर से कहो न!

1. अपने योग और अपनी विभूतियों के बारे में ज़रा विस्तारपूर्वक कहो न, तब शायद मुझे समझ आ जाए।

2. आप इतने महान् हो, आपकी महानता कैसे जानूँ और कैसे समझूँ?

3. सब आप ही हो, यह कैसे जानूँ और कैसे समझूँ?

4. आप तो मेरे सम्मुख खड़े हो, मुझे आपका अखिल रूप समझ नहीं आता! आप ही अगर विस्तार से कहो तो शायद समझ आ जाये।

5. आप कहो न कि कैसे अभ्यास करूँ और कैसे आपका चिन्तन करूँ?

6. किस किस को देखकर आपका नाम लूँ?

आप अपने बारे में मुझे बताओ। आपका इतना थोड़ा सा विस्तार सुन कर मैं तृप्त नहीं हुआ हूँ। गर विस्तार से फिर से कहोगे तो शायद साथ साथ अभ्यास भी हो जाये और मैं भी आपके अमृतमय वचन सुनकर तर जाऊँ। सो कृपा करके पुन: अपनी विभूतियों तथा योग का विस्तार कहिये।’

विभूति पाद तथा विराट रूप दर्शन का महत्व :

भगवान ने विभूति पाद तथा अपने विराट रूप को इतना विस्तार से क्यों कहा, पहले इसे समझ ले!

भगवान अर्जुन को :

1. जीव की लघुता समझा रहे हैं।

2. जीव की परमात्मा पर आश्रितता समझा रहे हैं।

3. परमात्मा की अखिल रूपता समझा रहे हैं।

4. ‘वासुदेवमिदं सर्वं’ का अभ्यास करवा रहे हैं।

5. परमात्मा की अखण्डता का अभ्यास करवा रहे हैं।

6. समझा रहे हैं कि पूर्ण सृष्टि परमात्मा के अधीन है।

7. समझा रहे हैं कि पूर्ण सृष्टि के कर्म तथा गुण परमात्मा के अधीन हैं।

8. समझा रहे हैं कि पूर्ण सृष्टि के जड़, चेतन, जो भी अंग हैं, वह परमात्मा के ही अंग हैं।

– भगवान जीव के मिथ्यात्व का अभाव करने का यत्न कर रहे हैं।

– जीव के व्यक्तिगत भाव के अभाव करने का यत्न कर रहे हैं।

– जीव के मिथ्या अहंकार का अभाव करने का यत्न कर रहे हैं।

– जीव के कर्तापन का अभाव करने का प्रयत्न कर रहे हैं।

– जीव के अज्ञान और ‘मैं’ के अभाव करने का यत्न कर रहे हैं।

निज गुण अभिमान का भंजन करके, दूसरों के गुणों का उन्हें दोष देना भी उचित नहीं, इस तत्व को सुझा कर भगवान साधक के मन से सम्पूर्ण दोष आरोपण करने वाली वृत्तियों को मिटाने के प्रयत्न कर रहे हैं। जन्म मृत्यु भगवान के हाथ है, यह कह कर वे जीव का तनो संग मिटा रहे हैं। जीव का जीवन भगवान के हाथ में है, यह कह कर वे जीव को जीवन के प्रति निरपेक्ष बना रहे हैं। जीव के गुण भगवान के हाथ में हैं, यह कह कर वे जीव को गुणातीतता की ओर ले जा रहे हैं। जीव के तन की रचना भी भगवान के हाथों में है, यह कह कर जीव का नाम रूप से भी संग मिटा रहे हैं। जीव के मन बुद्धि भगवान के हाथ में है, यह कह कर वे जीव का इनसे संग मिटा रहे हैं।

नन्हीं! जिन्हें भगवान पर संशय रहित श्रद्धा होगी और जो भगवान की कथनी को दोष दृष्टि से न देखते हुए, उनकी बातों को मान लेंगे, वह तो भगवान की कथनी को सुनते सुनते :

क) राग और द्वेष से मुक्त हो जायेंगे।

ख) किसी को भी बुरा नहीं कह सकेंगे।

ग) किसी से भी बदला लेने का प्रयत्न नहीं करेंगे।

घ) पल में दम्भ, दर्प तथा अभिमान को छोड़ देंगे।

ङ) पल में ही तीक्ष्णता, कठोरता तथा प्रचण्डता को छोड़ देंगे।

च) क्रोध का भी परित्याग कर देंगे।

सम्पूर्ण अहंपूर्ण व्यवहार स्वत: ही छूट जायेंगे, क्योंकि फिर जीव सम्पूर्ण गुण भगवान के ही मान लेंगे। तब वे तन रूपा माटी के बुत को दोष नहीं दे सकेंगे। उनकी दोष दृष्टि तथा दोष आरोपण की वृत्ति शान्त हो जायेगी। उनकी आलोचना करने की वृत्ति भी शान्त हो जायेगी और वे किसी की अपकीर्ति नहीं कर सकेंगे। उनके मन में वैमनस्य, वैर भाव या घृणा का वास नहीं हो सकेगा। उनके मन में लोभ, तृष्णा और लोलुपता भी भाग जाएगी। तब उनके आन्तर से दुष्ट, दुराचारपूर्ण वृत्तियों का अभाव हो जाएगा। इसके परिणाम स्वरूप द्वन्द्व मिट जायेंगे और उनके आन्तर में :

1. निर्मल तथा निर्दोष मन रह जाएगा।

2. निर्वैर मन रह जाएगा।

3. निर्मम भाव का जन्म होगा।

4. निर्लिप्तता का जन्म होगा।

5. शान्ति का जन्म होगा।

तत्पश्चात् उनके आन्तर से दैवी गुणों का बहाव आरम्भ होगा। यानि उनके जीवन में:

क) सहिष्णुता आ जाएगी।

ख) सहनशीलता तथा तितिक्षा आ ही जाएगी।

ग) क्षमाशीलता तथा अनुकम्पा आ ही जाएगी।

घ) विशाल हृदयता तथा परोपकार भाव आ ही जाएगा।

ङ) झुकाव आ ही जाएगा।

तब उनका मन क्रोध रहित तथा निन्दा की वृत्ति के रहित हो ही जाएगा। उनका मन वैराग्यपूर्ण हो ही जाएगा। वह मैत्री की ओर बढ़ ही जाएगा।

जब वे आपको भगवान का रूप ही जानेंगे, तब वे सर्वभूत हितकर बन ही जाएँगे। तब उनका मन अद्रोही हो ही जाएगा और सबका सहयोगी बन जाएगा।

नन्हीं! ऐसे श्रद्धावान् में सत्यता, न्याय पूर्णता, प्रेम और निरासक्ति का जन्म होगा। वे निर्विकार हो ही जाएँगे, अपने प्रति उदासीन हो ही जाएँगे। तब वे नित्य तृप्त, निर्द्वन्द्व, निर्दोष और मोह रहित हो ही जाएँगे। तत्पश्चात् गुणातीत, दैवी गुण सम्पन्न और स्थित प्रज्ञ हो ही जाएँगे।

Copyright © 2018, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01